There are no items in your cart

Enjoy Free Shipping on orders above Rs.300.

Kashi Ka Assi (Hindi)

₹ 250

(Inclusive of all taxes)
  • Free shipping on all products.

  • Usually ships in 1 day

  • Free Gift Wrapping on request

Description

Kashi Ka Assi by Kashinath Singh is from Rajkamal Prakashan, a noted publishing house of Hindi li... Read More

Product Description

Kashi Ka Assi by Kashinath Singh is from Rajkamal Prakashan, a noted publishing house of Hindi literature.

Product Details

Title: Kashi Ka Assi (Hindi)
Author: Kashinath Singh
Publisher: Rajkamal Prakashan
ISBN: 9788126711468
SKU: BK0458920
EAN: 9788126711468
Language: Hindi
Binding: Paperback
Reading age : All Age Groups

About Author

जन्म : 1 जनवरी, 1937, बनारस जिले के जीयनपुर गाँव में । शिक्षा : आरम्भिक शिक्षा गाँव के पास के विद्यालयों में। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए. (1959) और पी-एच.डी. (1963)। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग में प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष रहे। पहली कहानी 'संकट' कृति पत्रिका (सितम्बर, 1960) में प्रकाशित। कृतियाँ : लोग बिस्तरों पर, सुबह का डर, आदमीनामा, नई तारीख, सदी का सबसे बड़ा आदमी, कल की फटेहाल कहानियाँ, प्रतिनिधि कहानियाँ, दस प्रतिनिधि कहानियाँ, कहानी उपख्यान (कहानी-संग्रह); घोआस (नाटक); हिन्दी में संयुक्त क्रियाएँ (शोध); आलोचना भी रचना है (समीक्षा); अपना मोर्चा, रेहन पर रग्घू, महुआचरित, उपसंहार (उपन्यास); याद हो कि न याद हो, आछे दिन पाछे गए (संस्मरण), गपोड़ी से गपशप (साक्षात्कार)। अपना मोर्चा का जापानी एवं कोरियाई भाषाओं में अनुवाद। जापानी में कहानियों का अनूदित संग्रह। कई कहानियों के भारतीय और अन्य विदेशी भाषाओं में अनुवाद। उपन्यास और कहानियों की रंग-प्रस्तुतियाँ। 'तीसरी दुनिया' के लेखकों-संस्कृतिकर्मियों के सम्मेलन के सिलसिले में जापान-यात्रा (नवम्बर, 1981)। सम्मान : कथा सम्मान, समुच्चय सम्मान, शरद जोशी सम्मान, साहित्य भूषण सम्मान और 'रेहन पर रग्घू' उपन्यास के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार, रचना समग्र पुरस्कार। सम्प्रति : बनारस में रहकर स्वतंत्र लेखन

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Recently viewed