There are no items in your cart

Enjoy Free Shipping on orders above Rs.300.

Naye Yug Ka Sanyasi

₹ 250

(Inclusive of all taxes)

  • Free shipping on all products.

  • Usually ships in 1 day

  • Free Gift Wrapping on request

Description

हमारे जीवन और काल में विवेकानंद की प्रासंगिकता उन्हें फ्रांस की पाक-कला की पुस्तकें पसंद थीं, उन्... Read More

Product Description

हमारे जीवन और काल में विवेकानंद की प्रासंगिकता उन्हें फ्रांस की पाक-कला की पुस्तकें पसंद थीं, उन्होंने खिचड़ी बनाने की नई विधि का आविष्कार किया था, उन्हें जहाज़ निर्माण की इंजीनियरिंग और गोला-बारूद बनाने की प्रौद्योगिकी में दिलचस्पी थी I उनकी मृत्यु के 100 से भी अधिक वर्ष बाद क्या हम वास्तव में जान पाए हैं कि स्वामी विवेकानंद कितने विस्मयकारी, आकर्षक और जटिल व्यक्ति थे? अमेरिका को मंत्र-मुग्ध कर देने वाले उनके शिकागो भाषण से लेकर उनके वृहद लेखन और भाषणों ने भारत के विचार को पुनर्परिभाषित किया और बताया कि विवेकानंद एक सन्यासी से कहीं अधिक थे I विवेकानंद भारत की आधुनिक परिकल्पना के सर्वाधिक महत्वपूर्ण लोगों में से एक हैं I वे पूरी तरह से आधुनिक मनुष्य भी हैं, जो लगातार अपने ही विचारों को चुनौती देते रहे और विविध तथा विपरीत तर्कों को भी अपनाते रहे I यह उनकी आधुनिकता ही है जो हमें आज मोहित करती है I वे न तो इतिहास तक सीमित है, न ही कर्मकांड तक, और लगातार अपने आस-पास की हर चीज़ पर तथा ख़ुद के बारे में भी सवाल करते हैं I विवेकानंद के विरोधाभासों, उनकी शंकाओं, उनके भय, और उनकी असफलताओं के कारण ही हम उनकी विराट सम्मोहक दिव्यता को पहचानते हैं I वे हमें ईश्वर को समझना सिखाते हैं, और बताते हैं कि पहले हमें अपने आपको अच्छी तरह से समझना चाहिए I इस पुस्तक में तर्क दिया गया है कि ऐसा नहीं है कि केवल ईश्वर के नज़दीक थे, बल्कि वे इंसान के रूप में इतने विलक्षण थे कि हम विवेकानंद और उनकी अमर प्रज्ञा की ओर बार-बार लौटकर आते हैं I.

Product Details

Title: Naye Yug Ka Sanyasi
Author: Hindol Sengupta
Publisher: Manjul Publishing House
ISBN: 9789388241526
SKU: BK0435225
EAN: 9789388241526
Language: Hindi
Binding: Paperback
Reading age : All Age Groups

About Author

Hindol Sengupta is the Editor-at-Large at Fortune India, the Indian edition of Fortune magazine. He is the author of Recasting India and The Liberals, which received praise from globally renowned economists and public policy experts. Sengupta is also the founder of India's only open government non-profit, the Whypoll Trust. He has worked as a political interviewer on Bloomberg TV and as an anchor and reporter with the Indian editions of CNBC and CNN. Online ideas platform IdeaMensch included him on its list of 33 global social entrepreneurs who make the world a better place.

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Recently viewed