There are no items in your cart

Enjoy Free Shipping on orders above Rs.300.

Qissa Qissa Lucknowaa (Hindi Edition)

₹ 250

(Inclusive of all taxes)
  • Free shipping on all products.

  • Usually ships in 1 day

  • Free Gift Wrapping on request

Description

लखनऊ के नवाबों के किस्से तमाम प्रचालित हैं, लेकिन अवाम के किस्से किताबों में बहुत कम मिलते हैं. ज... Read More

Product Description

लखनऊ के नवाबों के किस्से तमाम प्रचालित हैं, लेकिन अवाम के किस्से किताबों में बहुत कम मिलते हैं. जो उपलब्ध हैं, वह भी बिखरे हुए. यह किताब पहली बार उन तमाम बिखरे किस्सों को एक जगह बेहद खूबसूरत भाषा में सामने ला रही है, जैसे एक सधा हुआ दास्तानगो सामने बैठा दास्तान सुना रहा हो. खास बातें नवाबों के नहीं, लखनऊ के और वहाँ की अवाम के किस्से हैं. यह किताब हिमांशु की एक कोशिश है, लोगों को अदब और तहजीब की एक महान विरासत जैसे शहर की मौलिकता के क़रीब ले जाने की. इस किताब की भाषा जैसे हिन्दुस्तानी ज़बान में लखनवियत की चाशनी है

Product Details

Title: Qissa Qissa Lucknowaa (Hindi Edition)
Author: Himanshu Bajpai
Publisher: Rajkamal Prakashan
ISBN: 9789388753821
SKU: BK0438117
EAN: 9789388753821
Language: Hindi
Binding: Paperback
Reading age : All Age Groups

About Author

हिमांशु बाजपेयी पक्के लखनऊवा हैं. वो ख़ुद को उसी चौक यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट कहते हैं,अमृतलाल नागर ख़ुद को जिसका वाइसचांसलर कहते थे. चौक की गलियों में चहलकदमी उनका पसंदीदा काम है. इन्हीं के बीच 12 जून, 1987 को पैदा हुए और यहीं पले-बढ़े. उनके मुताबिक़ पुराने लखनऊ की गलियों में बेसबब भटकना ऐसे है जैसे आप महबूबा की ज़ुल्फ़ के ख़म निकाल रहे हों. महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय से लखनऊ के ऐतिहासिक नवल किशोर प्रेस पर पीएचडी की है. दास्तानगोई के जाने पहचाने फनकार हैं. लखनऊ के समाज और संस्कृति पर दीवानावार लिखते हैं. बाहर वालों को अपनी नज़र से लखनऊ दिखाने और लखनऊवा किस्से सुनाने के लिए मश

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Recently viewed